सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्वामी विवेकानंद-जब भी हिम्मत टूटे तो इनकी बातो को याद रखना।

स्वामी विवेकानंद का बचपन का नाम नरेंद्र नाथ दत्त था वह भारतीय हिन्दू संन्यासी और 19 वी शताब्दी के संत रामकृष्ण के मुख्य शिस्य थे।

भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण दर्शन विदेशो में स्वामी विवेकानंद के ही कारण पहुँचा।
भारत में हिन्दू धर्म को बढ़ाने में उनकी मुख्य भूमिका रही है और भारत को उपनिवेशक बनाने में उनका मुख्य सहयोग रहा।
विवेकानंद ने रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन की स्तापना की ,जो आज भी भारत में सफलता पूर्वक चल रहा है। उन्हें प्रमुख रूप से उनके भाषण की शुरुवात 'मेरे अमेरिकी भाइयो और बहनो 'के साथ करने के लिए जाना जाता है।
जब सिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में उन्होंने हिन्दू धर्म की पहचान करते हुए कहे थे। उनका जन्म कोलकाता के बंगाली कायस्त परिवार में हुआ था। स्वामीजी का ध्यान बचपन से ही आध्यात्मिकता की और था।

उनके गुरु रामकृष्ण का उनपर सबसे ज़्यादा प्रभाव पड़ा ,जिससे उन्होंने जीवन जीने का सही उद्देश्य जाना,स्वयं की आत्मा को जाना और भगवन की सही परिभाषा को जानकर उनकी सेवा की और सतत अपने दिमाग को भगवन के ध्यान में लगाए रखा।


रामकृष्ण की म्रत्यु के पश्चात ,विवेकानंद ने विश्तृत रूप से भारतीय उपमहादीप  यात्रा की और ब्रिटिश कालीन भारत में लोगो की प्रशस्तति को जाना उसे समझा।


बाद में उन्होंने यूनाइटेड स्टेट की यात्रा की जहा उन्होंने 1893 में विश्व धर्म सम्मेलन में भारतीयों के हिन्दू धर्म का प्रतीतिनिधित्व किया। विवेकानंद ने यूरोप ,इंग्लैंड और यूनाइटेड स्टेट में हिन्दू शास्त्र की 100 से भी अधिक सामाजिक क्लासेज ली और भाषण भी दिए।


स्वामीजी के  सुविचार : 

  1. उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्षय की प्रापति ना हो जाये। 
  2. खुद को कमज़ोर समझना सबसे बड़ा पाप है। 
  3. तुम्हे कोई पढ़ा नहीं सकता,कोई आधात्मिक नही बना सकता तुमको सब कुछ खुद अंदर से सीखना है। आत्मा से अच्छा कोई शिक्षक नही है। 
  4. सत्य को हजार तरीको से बताया जा सकता है ,फिर भी हर एक सत्य ही होगा। 
  5. बाहरी सवभाव केवल अंदुरनी सवभाव का बड़ा रूप है। 
  6. ब्रह्माण्ड की सारी शक्तिया पहले से ही हमारी है। वो हमही जो अपनी आँखों पर हाथ रख लेते है और फिर रोते है की कितना अंधकार है। 
  7. विश्व एक विशाल वायामशाला है जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते है। 
  8. दिल और दिमाग की टकराव में दिल की सुनो। 
  9. शक्ति जीवन है ,निर्बलता मिर्त्यु है। विस्तार जीवन है ,सकुंचन मिर्त्यु है। 
  10. किसी दिन ,जब आपके सामने कोई समस्या ना आये -आप सुनिचित हो सकते है की आप गलत मार्ग पर चल रहे है। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समय बर्बाद करने से कैसे बचे.

नमस्कर दोस्तों आज में एक बहुत हे जरुरी टॉपिक पे  बात करने जा रहा हु जो है की आप अपना टाइम बर्बाद करने से कैसे बचे तो आइये जानते है की इस से कैसे बचा जा सकता है


1 . योजना बनाये सबसे पहले आप अपने पुरे दिन का लिस्ट बना ले जब आपकी लिस्ट तैयार हो जाये ,तो आप अपनी लिस्ट को चार भागो में बाट ले जो की इस प्रकार की होगी ➥सुबह का समय ➥ दोपहर का समय ➥शाम का समय ➥रात का समय 
जो काम आपको सुबह करनी है उसे सुबह वाले  पार्ट में रखना है ,जो काम दोपहर में करना है उसको दोपहर वाले पार्ट में रखना है ,जो काम शाम में करना उसको शाम वाले पार्ट में रखना है ,और जो काम रात में करना है उसको रात वाले पार्ट में रखना है ऐसे करने से आप को कब क्या करना है उसका पता चलगा।
(नोट:-आप अपना प्लानिंग के हिसाब अपना टाईमटेबल बनाये और उसी के अनुशार चले/काम करे)
एक इंसान अपनी ज़िंदगी का 30% समय बर्बाद करने में निकाल देता है। 5 % बड़े - बड़े सपने देखने में निकाल देता है। 1 7 % अपने गलतियों के बारे में सोच कर निकल देता ह

2. प्लानिंग करे  समय के साथ हर चीज़ बदलती है। हमारी डेली लाइफ में कुछ न कुछ बदलव आ जाते है हम काम कुछ और सोचते है और …

इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये | रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के उपाय भारतीय नुस्खा उपाय | "

❤हेलो दोस्तों ❤ आज मै बात करनेवाला हूँ कि आप अपना इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये जैसे की हमसब जानते है की इस समय पूरी दुनिया कोरना वायरस से जूझ रही है!और इस समय हम सब को  बहुत ही सम्हल के रहने की जरूत है और अपने  सेहत का अच्छे से ख्याल भी रखना है!इसी विषय पे बात  करने जा रहे है ,की किस तरह हम सब अपने घर के आम चीजो से  अपना इम्युनिटी पावर बढ़ा सकते है वो क्या क्या चीज़े है

1-अजवाइन - Carom seeds 2-दालचीनी - Cinnamon3-लौंग - Clove 4-तुलसी का पत्ता - Basil leaves 5-अदरक - Ginger 6-काली मिर्च - Black pepper

जो भी सामग्री ऊपर मै दिया गया है अब ➤जानते है की इनसब से इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये तो बिना देर किये आगे बढ़ते है और जानते है इनसब से कैसे अपना सेहत का ख्याल रख सकते है  ➤इन सभी सामग्री को साथ मै बारीक़ करके कुट ले और सब को एक साथ पानी मे उबाल ले लेकिन आप को धयान रखने की जरूत इस बात की है ,आप को पानी को  तब तक उबालना है जब तक की जितना पानी आप ने डाला था उसका आधा पानी बचे तभी इस काढ़े का अशर अच्छे  से  होगा तो इस बात का धयान अवस्य  रखे की पानी को ज़ादा से ज़ादा उबाले ताकि सभी चीज़े अच्छे से पानी मे…

पढ़ाई में मन लगाने के तरीके – पढने में मन कैसे लगायें? बेहतरीन उपाय

"हेलो दोस्तों"आज हम बात करने वाले है की आपका पढाई में मन कैसे लगे /पढाई में मन कैसे लगाए तो आज हम इसी टॉपिक पे बात करने वाले है जिसमे में आपको  10  ऐसे तरीके बताने वाला हु जिससे आप का पढाई में मान लगे।                                                                                                                                                                 

                         विद्यार्थी पढ़ाई में ध्यान क्यों नहीं लगा पाते है?            आज के इस समय का सबसे बड़ा कारन है मन का विचलित होना। जिसका कारन है मोबाइल गेम,  ,सोशलमीडिए ,टीवी ,शोर सराबा,दोस्त, परिवार आदि। आपके साथ कुछ न कुछ ऐसा होता होगा जिससे आप का मन विचलित हो जाता होगा। आप के साथ ऐसा जरूर हुआ  होगा की आप कुछ महत्पूर्ण काम कर रहे होंगे उसी बीच आप के मोबाइल पे कोई मैसेज आ गया होगा और आप उसको देखने क लिए गये होंगे और उसके चक्कर में आप का एक-दो घंटे चैट करने में चला गया होगा।

⧭पढ़ाई में ध्यान कैसे लगायें? 10  ज़बरदस्त मूल मंत्र तो आइये जानते है वह कौन सा बेह…