क्‍या आप ज्‍यादा ईयरफोन का इस्‍तेमाल करते हैं ? अब से नहीं करना।

ईयर फोन कहें या ईयर बड्स बात एक ही है हाल ही के कुछ वर्षों में इसका उपयोग करने वाले लोगों की संख्‍या में काफी ज्‍यादा बढोत्‍तरी हुई है। 

आजकल के समय में शायद ही कोई ऐसा होगा जो ईयरफोन या ईयर बड्स का पयोग न करता हो। चाहे बच्‍चे हों या बुजुर्ग सभी इसका उपयोग बिना सोचे समझे किए जा रहे हैं। 

किसी को कॉल करने के लिए, ऑनलाइन मीटिंग के लिए, या ओटीटी पर वेबसीरीज देखने के लिए आप इनका उपयोग कई घण्‍टो तक करते हैं। 

Headphone


अगर हम अपने आस पास नजर दौड़ाये तो हम देखेंगे कि जिसे देखों वह ईयरफोन लगाए बैठा है। 

ईयरफोन से प्राइवेसी तो बढ़ जाती है लेकिन सेहत में अच्‍छा खासा नुकसान हो सकता है। ज्‍यादा ईयरफोन के उपयोग से आपके कान के ईयरड्रम पर नुकसान हो सकता है। तो चलिए आज हम जानते हैं ईयरफोन से होने वाले नुकसान से बचने के लिए किन किन बातों का ध्‍यान रखना आवश्‍यक हो जाता है। 

अगर हम केवल भारतीय लोगों की बात करें तो औसत हर हफ्ते लगभग 26 घण्‍टे इसका इस्‍तेमाल करते हैं, जिसमें एक्‍सरसाइज, रनिंग, मेडिटेशन, साइकलिंग, योग आदि शामिल हैं। 

WHO की माने तो साल 2050 तक लगभग 70 करोड़ लोगों के कान ज्‍यादा ईयरफोन के इस्‍तेमाल से खराब हो जाएंगे। जब हम देर तक ईयरफोन का उपयोग करते हैं तो सुनने वाले सेल्‍स अपनी संवेदनशीलता खो देते हैं जिससे बहरापन हो सकता है। 

अगर आपको निम्‍नलिखित समस्‍याओं में से कोई एक भी समस्‍या आ रही है तो आपको जल्‍द से जल्‍द किसी अच्‍छे ENT डॉक्‍टर से जांच करा लेनी चाहिए। ये समस्‍याएं हैं-

1. कान में दर्द
2. सिरदर्द
3. कान सुन्‍न होना
4. सुनने की क्षमता प्रभावित होना

ये समस्‍याएं उन लोगों में ज्‍यादा होती है जो देर तक ईयरफोन का उपयोग करते हैं, कई लोग तो रात में सोते हुए इनका उपयोग करते हैं और रात में इनको अपने कानों में लगाकर सो जाते हैं। 

अब हम आपको बताते हैं कि आखिर ईयरफोन में ऐसा क्‍या रहता है जो इतनी समस्‍याएं आ जाती हैं-

दरअसल हमारे कान में ईयरड्रम होता है जिससे हम सुनते हैं इसमें कुछ नसें होती है जो सीधे हमारे दिमाग से कनेक्‍ट होती है। 

जब हम ईयरफोन का उपयोग करते हैं तो इसमें बाइब्रेशन होता है और अगर यह बाइब्रेशन ज्‍यादा समय तक हो जाए तो हमारी सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। 

ईयरफोन की तुलना में हैडफोन का उपयोग करना सही रहता है लेकिन उसे भी ज्‍यादा देर तक इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए। इन दोनों में मूल फर्क यह है कि हमारे ईयरड्रम से ईयरफोन की दूरी कम होने के कारण ज्‍यादा बाइब्रेशन होता है। और हैडफोन हमारे कान के बाहर लगा होता है तो इससे ईयरफोन की तुलना में कम परेशानी होती है। 

आपको एक दिन में सिर्फ 30 मिनट तक ही इनका उपयोग करना चाहिए। और वाल्‍यूम को 60% से ज्‍यादा नहीं बढ़ाना चाहिए।

हेडफोन-ईयरफोन का सही उपयोग करने के लिए कुछ टिप्‍स-

1. ज्‍यादा देर तक इनका उपयोग न करें। 

2. इनका वॉल्‍यूम ज्‍यादा से ज्‍यादा 60 प्रतिशत होना चाहिए।

3. इन्‍हें साफ रखे और दूसरों से शेेेयर करने से बचें। 

4. इन्‍हें कानों के अंदर दबाने की कोशिश न करें। 

5. हमेशा ब्रांडेउ कंपनी का उपयोग करें। 

6. ब्‍लूटूथ वाले हैडफोन का उपयोग चार्जिंक के दौरान न करें। 

7. हर 1 घण्‍टे के बाद 10 मिनट का ब्रेक लें। 

8. सोते वक्‍त इनका उपयोग न करें। 

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.