कौन ज्‍यादा रहस्‍यमयी अंतरिक्ष या समुद्र?

समुद्र जिसकी गहराई को माप पाना आज भी नामुमकिन सा लगता है, लेकिन इंसान ने कुछ हद तक इसकी गहराई जानने की कोशिशें की और उसमें कामयाबी हासिल की है। आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि समुद्र को इंसान ने कहा तक एक्‍सप्‍लोर करने की कोशिश की है।
 
समुद्र की सतह
समुद्र के सबसे ऊपरी भाग यानी जिस भाग पर जहाज, नाव या अन्‍य दिखाई दे रहा है भले ही वह मछुआरा क्‍यों न हो सतह कहलाता है,आप सतह को ध्‍यान में रखिए समुद्र में जो भी बात की जाती है उसका आधार सतह को ही माना जाता है।
 
समुद्र की सतह उस भाग को कहते हैं जहां सबसे ज्‍यादा हवा और रोशनी होती है और जीव जंतु इसके आसपास रहते हैं। 

सतह से लगभग 830 फीट नीचे इंसान का बिना किसी उपकरण के पहुंचने का रिकॉर्ड है यहां पर सतह के मुकाबले प्रेशर ज्‍यादा रहता है इतना प्रेशर की मनुष्‍य के फेफड़े फट भी सकते हैं। 

इसके आगे और चलेंं तो सतह से 3280 फीट नीचे 'मिडनाइट जोन' आता है जिसका अर्थ होता है अब इसके आगे घुप्‍प अंधेरा है 'मिडनाइट जोन' तक सूरज की रोशनी नहीं पहुंच पाती। 

सतह से लगभग 10 हजार फीट नीचे कोई स्‍तनपायी तैरता अभी तक नहीं पाया गया है केवल यहां पर व्‍हेल तैरती है। 

इसके आगे लगभग 13 हजार फीट पर 'टाइटेनिक' जहाज का मलबा पड़ा हुआ है। अब आप यह सोच रहें होंगे कि जब कोई भारी भरकम चीज पानी में जाती है तो वह धरातल में ही जाकर बैठती है ऐसा समुद्र में नहीं होता है। जहां टाइटेनिक जहाज का मलबा पड़ा हुआ है समुद्र की गहराई उससे भी आगे है। 

इसके बाद सतह से लगभग 36 हजार फीट नीचे के भाग को 'चेलेंजर डीप' कहा जाता है मनुष्‍य अपनी पनडुब्बियों की मदद से यहां तक पहुंच गया है यह सतह से करीब 11 किलोमीटर नीचे है। 

FACT- अभी तक केवल पूरे समुद्र का 5 से 10 प्रतिशत हिस्‍सा की एक्‍सप्‍लोर किया जा सका है। समुद्र में अभी कितने रहस्‍य छिपे है यह जानना अभी बाकी रह गया है। डीप-सी एक्‍सप्‍लोरेशन तेजी से बढ़ता रहा है। 

आपको यह हमारा लेख कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूरत बताए।  
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.